Top Level Domain Kya Hai

Top Level Domain Kya Hai ? TLD Best 1 Guide

आज का विषय है – Top Level Domain Kya Hai ? Top Level Domain के कितने प्रकार हैं ? और सही Top Level Domain का चुनाव कैसे करें ? आइये जानतें हैं, Step by Step हिंदी में।

जैसा कि हम जानतें हैं। और हमने पिछले Post पर भी समझा है कि, Domain Levels को Hierarchical Order पर दर्शाया जाता है। जिन्हें Right End से Left End के ओर पढ़तें हैं। तथा इनका विभाजन Period या (.) Dot द्वारा किया जाता है।

जहाँ Right Most Level को Top Level Domain, Centre में Second Level Domain तथा Left End Level को Third Level Domain या Sub Domain कहतें हैं। आज हम यहाँ पर केवल Top Level Domain पर Detail में चर्चा करेंगे।

Top Level Domain Kya Hai ?

Internet पर DNS Hierarchy के Right Most Level पर आने वाले Domain को Top Level Domain या TLD कहतें हैं। इसे Root Level Domain के बाद, सबसे Highest Level Domain माना गया है।

Top Level Domain को Namespace के Root Zone पर install करतें हैं। यह Fully Qualified Domain Name में अंतिम Non Empty Level होता है। क्यूँकि इसके बाद Root Domain होता है। जो की Empty Level है। उदाहरण – www.hindistep.com में .com TL Domain है।

तो क्या सारी Websites में Right Most Side में, dot (.) के बाद आने वाला Level, TL Domains है ? तो उत्तर हैं – नहीं। इसकी सही जानकारी पाने के लिए हमें थड़ा सा इसके इतिहास में जाना होगा। तो आइये जानतें हैं।

Short History of TLDs :

जैसा की हम जानतें हैं, प्रत्येक Computer को पहचाननें के लिए IP Address होता है। जो कि पहले भी होता था। अंतर यह है कि अब इसे Domain Name System के द्वारा आसानी से समझने और याद करने के लिए Character Format में बदल सकतें हैं।

यह कार्य सर्वप्रथम ARPANET के द्वारा किया गया था। इसके फल स्वरुप सन 1971 में @ Symbol का प्रयोग करके प्रथम E-Mail भेजा गया था। लेकिन उस समय भी @ के बाद प्रयोग किये जाने वाला Address कोई Domain Name ना होकर, एक वास्तविक Computer System ही था।

इसके बाद 1980 के दसक के शुरुआत में, पहली बार Domain की शुरुआत हुई, और प्रथम TL Domain जैसे – .com एवं .org प्रयोग किये गए। इसके लिए एक स्वतंत्र Domain Registry Controller के रूप में ICANN को नियुक्त किया गया। तथा TL Domains को कुछ निश्चित Basic Informations के अनुसार Register किया जाने लगा। जैसे –

  • किस छेत्र के लिए निर्माण किया जाना है ? जैसे – Militry, Education, Government या कोई Business आदि।
  • Owner Profile जैसे – उसका नाम , पता , भूगौलिक छेत्र आदि।

Types of Top Level Domain :

ICANN के द्वारा Top Level Domain को कई विभिन्न Criteria में बाँटा गया है। आइये इसे भी विस्तार से एक-एक करके List of Top Level Domain जानतें हैं।

Generic Top Level Domain (gTLD) :

Generic TLD, Internet में अब तक के सबसे Popular TL Domains में आतें हैं। जिनमें सात TL Domains को ICANN के द्वारा सन 1998 में बनाया गया था। जैसे – .com , .org , .net , .int , .edu , .gov एवं .mil

Top Level Domain_1
Name
Purposes
.comCommercial
.orgOrganization
.intInter-Governmental Organisations
.eduEducation
.govGovernment Agencies
.milU.S. Military
.netDistributed Network Technology

शुरुआत से ही ICANN, Generic TLD के अंतर्गत और अधिक TL Domains जोड़ने के सख्त विरोध में था। परन्तु सन 2010 में बाद इसके नियमों में काफी ढील दी गयी। जिसके बाद इसमें सैकड़ो की संख्या में TL Domains जोड़े गए। जैसे- .xyz , .agency, .loan , .info , .biz आदि।

Country Code Top Level Domain (ccTLD) :

Country Code TL Domains का निर्माण विभिन्न Country, Sovereigh States और Territories के लिये Reserve किया गया। यह मुख्यतः दो अक्षरों में दर्शाया जाता है। जैसे – India के लिए ‘.in’ , Japan के लिए ‘.jp’ आदि। यहाँ पर भी किसी Country के लिए ccTL Domains का चयन करने का कार्य ICANN द्वारा निर्धारित किया जाता है।

Sponsored Top Level Domain :

Sponsored TDL किसी एक निश्चित Group या समूह के लिये निर्धारित किये जातें हैं। चाहे फिर वो कोई Bussiness Entity हो, Government Organisation हो, या फिर कोई Community हो। जैसे – .gov , .jobs , .app या। .travel आदि।

Infrastructural Top Level Domain :

Infrastructural TL Domains Advanced Research Project Agency (ARPA) के लिए Reserved TDL है। जो कि .arpa के रूप में प्रयोग होता है। United States का ARPA एक Funding Organisation है। जिसके द्वारा ARPANET शुरू किया गया था।

Reserved Top Level Domain :

Internet Engineering Task Force (IETF) के अनुसार चार TDLs जैसे – .invalid , .example , .localhost और .test को Reserve किया गया है। अतः ये General Public के Domain Registration के लिये Allot नहीं किए जाते हैं। साथ ही इन्हें किसी भी प्रकार की Conflict या Confusion से बचने के लिये, Domain Name System के Root Level Zone पर Install नहीं किया जा सकता।

हालांकि यदि आप चाहें तो इन्हें, Referencing, Local Testing या Documentation के लिये प्रयोग कर सकतें हैं। Reserved TL Domains का प्रयोग निम्न अनुसार है।

Restricted TDLsPurposes
.exampleकेवल उदाहरण देने के लिये उपलब्ध है।
.invalidinvalid Domain Names को दर्शाता है।
.localhostLocal Computer पर प्रयोग के लिए उपलब्ध है।
.testDNS पर Testing कार्य के लिए उपलब्ध है।

Top Level Domain को नियंत्रण कौन करता है ?

Top Level Domain का मुख्य नियंत्रक ICANN (Internet Corporation for Assigned Names and Numbers) है। जो कि एक Non Profit Organisation है। तथा सहायक नियंत्रक के रूप में IANA (Internet Assigned Numbers Authority) कार्य करता है। IANA वास्तव में ICANN की ही शाखा है।

Top Level Domain का चुनाव कैसे करे ?

TL Domains का चुनाव अपनी आवश्यकता के अनुसार करना चाहिए। जैसे यदि Commercial Website है तो .com, कोई Organisation है तो .org, या फिर कोई Educational Website हो तो .edu चुनना चाहिए। यदि आपके Visitor केवल आपके Country से है ccTLD चुनें। वैसे तो अब Generic TL Domains की संख्या बहुत हो गयी है।

फिर भी Generic TL Domains में से Popular Generic TL Domains चुनना अच्छा रहता है। GrowthBadger की एक Report के अनुसार .com domains, 33 % अधिक याद रहता है। तथा UK के VARN 1000 लोगों के एक सर्वे में पाते हैं की, 70% लोग नये या कम Popular Domain पर विश्वास नहीं करते। अतः आपकी किसी भी विषय (Niche) में Website क्यूँ न हो, Generic Popular TL Domain चुनना ही सही रहेगा।

निष्कर्ष :

उपरोक्त पोस्ट में हमने जाना कि – Top Level Domain क्या है ? , Short History of TL Domains , Types of TL Domains – जिसके अंतर्गत हमने जाना Generic TL Domain, Country Code TL Domain, Sponsored TL Domain, Infrastructural TL Domain तथा Reserved TL Domain क्या हैं ? और कैसे कार्य करतें हैं ? साथ ही हमने यह भी जाना कि TL Domains को नियंत्रित कौन करता है ? एवं TL Domains का चुनाव कैसे करें ?

यदि कहीं कोई Doubt हो तो Comment Box में पूछें। आशा है कि यह पोस्ट आपको पसंद आई होगी। अतः इसे अपने परिचितों से शेयर करना ना भूलें। धन्यवाद।

 <strong>लेखक</strong> : <strong>अखिलेश पयासी</strong>
लेखक : अखिलेश पयासी

मैं HindiStep.com का Founder और एक Professional Blogger हूँ। मैं आपके लिए Online Income से सम्बंधित जानकरियाँ इस ब्लॉग से नियमित Share करता हूँ।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Scroll to Top